बाजार में मौजूद है 50 करोड़ रुपए के नकली सिक्कें, जानिए सिक्कों की पहचान से जुड़ा ये राज

5 और 10 रुपए के नकली सिक्के बनाने वाले मास्टर माइंड उपकार लूथरा को स्पेशल सेल ने गुरुवार को गिरफ्तार किया है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक उसने 1998 से अब तक करीब 50 करोड़ रुपए के नकली सिक्के भारत की अर्थव्यवस्था में उड़ेल दिए हैं. पर क्या आप सिक्कों पर लिखी हर बात और बने हर चिन्ह का एक मतलब को जानते है, क्योंकि हर निशान का कुछ न कुछ मतलब होता है।

Coins

हर सिक्का कुछ कहता है
1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्कों से हमारा वास्ता रोज ही पड़ता है। लेकिन, इस सिक्के पर लिखी हर बात और बने हर चिन्ह का एक मतलब होता है, जिससे आधा से ज्यादा देश अंजान है. इन सिक्कों को लेकर क्या आपने कभी इस बात पर गौर किया है कि इनमें बने खास चिन्ह क्या असलियत बताते हैं. अगर नहीं तो जनाब. सिक्कों पर बने विशेष चिन्ह ये दर्शाते हैं कि आखिर वह आया कहां से है. अब आप सोच रहे होंगे कि ये कौन से चिन्ह की हम बात कर रहे हैं जो इतना कुछ बता देता है और आपको इसके बारे में कुछ पता ही नहीं. तो अब आप अपने सिक्के पर गौर कीजिए और हम बताते हैं कि सिक्के कैसे बयां करता है कि वह कहां से आएं हैं.

भारत में हैं चार मिंट

आपको बता दें कि भारत में चार मिंट (टकसाल) हैं जिनके पास सिक्के बनाने का अधिकार है. ये हैं मुंबई मिंट, कलकत्ता मिंट, हैदराबाद मिंट और नोएडा मिंट. यहीं से निकलकर सिक्के मार्केट में आ जाते हैं. देश के सबसे पुराने मिंट में कलकत्ता और मुंबई मिंट हैं. दोनों को साल 1859 में अंग्रेजी हुकूमत ने स्थापित किया था.

 

Up Next