इस्‍लाम में बिना जरूरत फोटो खिंचवाना सख्‍त मना : दारूल उलूम देवबंद

 दारूल उलूम देवबंद ने फतवा जारी करते हुए कहा कि इस्‍लाम में बिना जरूरत तस्‍वीरें खिंचवाना सख्‍त मना है. दारूल उलूम ने यह भी कहा है कि बिना जरूरत सीसीटीवी कैमरा लगवाना भी इस्‍लाम में नाजायज है. दरअसल महाराष्‍ट्र के रहने वाले अब्‍दुल माजिद ने दारूल उलूम के इफ्ता विभाग से सवाल पूछा था कि क्‍या भीड़भाड़ वाले क्षेत्र में अपने मकान या दुकान की सुरक्षा के लिए सीसीटीवी कैमरे लगाए जा सकते हैं. इसी का जवाब देते हुए दारूल उलूम ने यह फतवा जारी किया है.

अब्‍दुल माजिद के सवाल का जवाब देते हुए दारुल उलूम देवबंद के मुफ्ती महमूद हंसन मुफ्ती हबीबुर्रहमान मुफ्ती वक्कार अली ने कहा कि मकान व दुकान की सुरक्षा के लिए सीसीटीवी कैमरे लगाने के अलावा कई दूसरे जायज तरीके इस्तेमाल किए जा सकते हैं क्‍योंकि सीसीटीवी कैमरे लगाने से तस्वीरें कैद होती हैं और इस्लाम में बिना जरूरत तस्वीरें खिंचवाना सख्त मना है. देवबंद उलेमा मुफ्ती अहमद ने फतवे का समर्थन करते हुए कहा कि दारुल उलूम का फतवा बिल्कुल सही है और हम इसका समर्थन करते हैं. सीसीटीवी कैमरे लगवाने पर जो दारुल उलूम का फतवा आया है उसमें सीसीटीवी कैमरे आप अपने घर की हिफाजत के लिए लगा सकते हैं.

सीसीटीवी कैमरे लगाने के मामले पर दारूल उलूम देवबंद का कहना है कि सीसीटीवी दुकान की हिफाजत की वजह से लगा सकते हैं लेकिन किसी ऐसी जगह सीसीटीवी कैमरे लगाना, जहां उसकी जरूरत नहीं है, यह नाजायज है. किसी को परेशानी हो ऐसी जगह पर सीसीटीवी कैमरे नहीं लगवाना चाहिए. दारुल उलूम ने जो फतवा दिया है शरीयत की रोशनी में सोच समझकर दिया है उसको हमें मानना चाहिए. दारूल उलूम क्योंकि जो बात करता है वो तमाम बहुत चीजों को सामने रखकर तब करता है. बिना जरूरत सीसीटीवी कैमरे लगवाना जायज नहीं है. फिजूलखर्ची करना भी शरीयत में मना है.

Up Next